दिल्ली से पानीपत हाइवे निर्माण को नई शुरुआत मिली, जून 2021 तक पुरा होगा: एनएचएआई

0
454
delhi panipat road project

दिल्ली से पानीपत के बीच में बारह लेन की महत्वाकांक्षी हाईवे परियोजना जिसका निर्माण कार्य दो साल से बंद था, अब जून 2021 तक पुरी हो जाएगी | यह परियोजना का निर्माण कार्य  अप्रैल 2019 तक पूरा होना था| लेकिन, ईएसएसईएल इन्फ्रा (ESSEL INFRA) ने फंड की कमी के कारण इस परियोजना के निर्माण कार्य को बंद कर दिया था| जिसके चलते ‘भारत के राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण’ ने ईएसएसईएल इन्फ्रा का राजमार्ग अनुबंध रद्द कर दिया था| जिसकी वजह से यह परियोजना अनिश्चित काल के लिए बंद हो गइ थी|



राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 44 जो दिल्ली के मुकरबा चौक से हरियाणा के पानीपत तक है, इस परियोजना को पूरा करने के लिए, एनएचएआई (NHAI) ने ‘सामंजस्यपूर्ण प्रतिस्थापन’ के तेहत नए ठेकेदारों से संपर्क किया, और यह परियोजना वेलस्पन एंटरप्राइजेज (Welspun Enterprises) को प्रदान कर दि |

Current Situation of the Highwayएनएचएआई द्वारा इस वर्ष के जनवरी में ‘सामंजस्यपूर्ण निकास’ खंड पेश किया गया था। यह उधारदाताओं को किसी अन्य निर्माण कंपनी को अटक गई परियोजना को हस्तांतरित करने की अनुमति देता है यदि पहले वाला समय पर वितरित करने में असमर्थ है। आज तक, MCPTRL ने 71.1 किलोमीटर लंबे मुकरबा चौक – पानीपत हाईवे (NH-44) परियोजना का ~ 31% पूरा कर लिया था।

जानिए हरियाणा सरकार द्वारा जारी की गई सभी नई नौकरी

मूल कुल परियोजना लागत 2,122 करोड़ रुपये होने का अनुमान लगाया गया था, जिसमें से 1,593 करोड़ रुपये का व्यय शेष है, परियोजना को पूरा करने के लिए। परियोजना के सभी मौजूदा ऋणदाता परियोजना का समर्थन जारी रखने के लिए सहमत हुए हैं; इस प्रकार यह परियोजना पूरी तरह से आर्थिक रूप से बंधी हुई है।

कंपनी जून 2021 तक परियोजना को पूरा करने की उम्मीद करती है। रियायत समझौते के अनुसार, निर्धारित रियायत की अंतिम तिथि अक्टूबर 2033 है, जो वर्ष 2025 में वास्तविक औसत यातायात के आधार पर 3.4 वर्ष तक बढ़ाई जा सकती है।

केवल हरियाणा खंड के लिए मौजूदा टोल राजस्व लगभग 200 करोड़ रुपये प्रति वर्ष है। हरियाणा और दिल्ली दोनों खंडों के लिए सीओडी (वाणिज्यिक परिचालन की तारीख) प्राप्त करने पर, कंपनी को प्रतिवर्ष 300 करोड़ रुपये का टोल वसूलने की उम्मीद है।

Have a Question? Comment here